Mehbooba Mufti Vs PM Modi BJP; Jammu Kashmir Lithium Blocks Auction | जम्मू-कश्मीर के लीथियम भंडार की होगी नीलामी: महबूबा मुफ्ती का BJP पर आरोप- इन्हें लूटकर कंपनियों को तोहफे में दिया जाएगा

[ad_1]

श्रीनगर10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
महबूबा मुफ्ती 2016 से 2018 तक जम्मू कश्मीर की CM रह चुकी हैं। - Dainik Bhaskar

महबूबा मुफ्ती 2016 से 2018 तक जम्मू कश्मीर की CM रह चुकी हैं।

जम्मू कश्मीर की पूर्व CM और पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने आरोप लगाया है कि BJP कश्मीर के लिथियम भंडार उन कंपनियों को तोहफे में देगी, जो बाद में इससे होने वाली अवैध आय का एक हिस्सा उनकी पार्टी को डोनेट करेंगी। महबूबा ने X पर उन मीडिया रिपोर्ट पर पोस्ट किया, जिनमें कहा गया है कि सरकार जम्मू-कश्मीर में लिथियम ब्लॉकों की फिर से नीलामी करेगी।

लिथियम एक ऐसा नॉन फेरस मेटल (अलौह धातु) है, जिसका उपयोग मोबाइल-लैपटॉप, इलेक्ट्रिक व्हीकल (EV) समेत अन्य चार्जेबल बैटरी बनाने में किया जाता है। यह एक रेअर अर्थ एलिमेंट है। फरवरी 2023 में जम्मू के रियासी में 59 लाख (5.9 मिलियन) टन लिथियम और सोने के 5 ब्लॉक मिले हैं।

रियासी का यह वीडियो 8 फरवरी 2023 को न्यूज एजेंसी ANI ने शेयर किया था।

रियासी का यह वीडियो 8 फरवरी 2023 को न्यूज एजेंसी ANI ने शेयर किया था।

पोस्ट में दावा- BJP और कंपनियों की सांठगांठ उजागर हो गई
महबूबा ने लिखा है- अब जब भाजपा और पूंजीपतियों के बीच सांठ-गांठ उजागर हो गई है। यह साबित हो चुका है कि भारत सरकार लद्दाखियों की वैध मांगों को क्यों नजरअंदाज कर रही है। कमजोर हो चुके सोनम वांगचुक की हालत ने भी सरकार में जरा भी सहानुभूति या चिंता पैदा नहीं की है। अब जम्मू-कश्मीर के लिथियम भंडार को भी लूटा जा रहा है और संदिग्ध कंपनियों को तोहफे में दिया जा रहा है, जो बाद में इस अवैध आय का एक हिस्सा सत्तारूढ़ दल को पार्टी फंड के रूप में दान करेंगे।

14 मई तक खुली है लीथियम भंडार की नीलामी
भारत सरकार तीसरी किश्त के हिस्से के रूप में जम्मू और कश्मीर में अपने लिथियम भंडार की फिर से नीलामी करेगी। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक नीलामी दोबारा होगी क्योंकि सरकार को पहले दौर में केवल दो बोलियां मिली थीं। सरकार ने एक बयान में कहा था- तीसरी किश्त में समग्र लाइसेंस के रूप में कुल 7 खनिज ब्लॉकों को नीलामी के लिए रखा जा रहा है, जिनके लिए बोलियां जमा करने की आखिरी तारीख 14 मई है।

2023 में हुआ था लीथियम भंडार का खुलासा
जम्मू कश्मीर में फरवरी 2023 में देश में पहली बार लिथियम का भंडार मिला था। इसकी कैपेसिटी 59 लाख (5.9 मिलियन) टन है। लिथियम के साथ ही सोने के 5 ब्लॉक भी मिले। लिथियम (G3) की यह पहली साइट है, जिसकी पहचान जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (GSI) ने जम्मू-कश्मीर के रियासी में की।

लिथियम के लिए भारत अभी पूरी तरह दूसरे देशों पर निर्भर
भारत लीथियम के लिए अपनी जरूरतों का बड़ा हिस्सा आयात करता है। 2020 से भारत लिथियम आयात करने के मामले में दुनिया में चौथे नंबर पर रहा। भारत अपनी लिथियम-आयन बैटरियों का करीब 80% हिस्सा चीन से मंगाता है। भारत इस क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने के लिए अर्जेंटीना, चिली, ऑस्ट्रेलिया और बोलिविया जैसे लिथियम के धनी देशों की खदानों में हिस्सेदारी खरीदने पर काम कर रहा है।

ये खबर भी पढ़ सकते हैं…

क्या है यूक्रेन में छिपा वाइट गोल्ड लिथियम , जिसके पीछे पड़ा है रूस, फोन से लेकर गाड़ियों तक में होता है इस्तेमाल

यूक्रेन के खिलाफ रूस की युद्ध छेड़ने की एक प्रमुख वजह वहां धरती के नीचे छिपा वाइट गोल्ड यानी लिथियम का अकूत भंडार है। माना जा रहा है कि अगर इस भंडार का सही दोहन हो तो यूक्रेन लिथियम का सबसे ज्यादा रिजर्व वाला देश बन सकता है। खास बात ये है कि लिथियम का अधिकतर भंडार यूक्रेन के पूर्वी डोनबास इलाके में है। पूरी खबर पढ़ें…

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link