Republic Day 2024 Parade; Narendra Modi Tableau Artists NCC Cadets Meeting Update | PM मोदी झांकी कलाकारों और NCC कैडेट से मिलेंगे: रिपब्लिक डे पर देशभर से 2274 कैडेट ले रहे भाग, झांकियों में चंद्रयान-3 और भगवान राम दिखेंगे

[ad_1]

  • Hindi News
  • National
  • Republic Day 2024 Parade; Narendra Modi Tableau Artists NCC Cadets Meeting Update

नई दिल्ली53 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
PM मोदी गणतंत्र दिवस में भाग लेने वाले NCC कैडेट्स से बातचीत करेंगे। - Dainik Bhaskar

PM मोदी गणतंत्र दिवस में भाग लेने वाले NCC कैडेट्स से बातचीत करेंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने आवास पर गणतंत्र दिवस में भाग लेने वाले झांकी कलाकारों और NCC कैडेट्स से मुलाकात करेंगे। इस बात की जानकारी डिफेंस पीआरओ मनोज रूड़कीवाल ने दी है।

NCC कैडेट्स का एक महीने का गणतंत्र दिवस कैंप चल रहा है। 20 जनवरी को कैडेट्स के बीच रक्षामंत्री राजनाथ सिंह पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कहा- “एनसीसी युवाओं में न केवल राष्ट्रीयता, बल्कि राष्ट्रीय गौरव की भावना भी जगाता है। राष्ट्रीय गौरव मानव हृदय की सबसे मजबूत भावना है।

परेड के लिए 28 राज्यों और 8 केंद्र शासित प्रदेशों के कुल 2274 कैडेट एक महीने तक चलने वाले राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) गणतंत्र दिवस कैंप 2024 में भाग ले रहे हैं। इनमें 907 लड़कियां है।

गणतंत्र दिवस की परेड के दौरान 16 राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों और 9 मंत्रालयों और विभागों की 25 झांकियां शामिल होंगी। इन राज्यों में अरुणाचल प्रदेश, हरियाणा, मणिपुर, मध्य प्रदेश, ओडिशा, छत्तीसगढ़, राजस्थान, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, लद्दाख, तमिलनाडु, गुजरात, मेघालय, झारखंड, उत्तर प्रदेश और तेलंगाना का नाम है।

नई दिल्ली में 20 जनवरी को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह देशभर के 2274 कैडेट्स से मिले थे।

नई दिल्ली में 20 जनवरी को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह देशभर के 2274 कैडेट्स से मिले थे।

परेड की दो प्रमुख थीम- ‘विकसित भारत’ और ‘भारत-लोकतंत्र की मातृका’
75वें गणतंत्र दिवस पर कर्तव्यपथ पर होने वाली परेड महिला-केंद्रित होगी। ‘विकसित भारत’ और ‘भारत-लोकतंत्र की मातृका’ नाम की इसकी दो प्रमुख थीम होंगीं। मेजर जनरल सुमित मेहता ने बताया कि पहली बार ऑल-विमेन ट्राई-सर्विस कंटिंन्जेंट परेड में हिस्सा लेगा। इसमें सेना, वायुसेना और नौसेना की 60 महिला अफसर शामिल होंगी।

कैप्टन शरण्या राव पहली बार परेड में ट्राई-सर्विस दल का नेतृत्व करने वाली हैं।

कैप्टन शरण्या राव पहली बार परेड में ट्राई-सर्विस दल का नेतृत्व करने वाली हैं।

गणतंत्र दिवस की इस बार की थीम नारी शक्ति है। इसलिए कई वुमन लीडरशिप वाले दल भाग ले रहे हैं, चाहे वह बैंड हो, ट्राई-सर्विस हो, ये पहली बार भाग ले रहा है। ट्राई-सर्विस की टुकड़ी का नेतृत्व भारतीय सेना की कैप्टन शरण्या राव करेंगी।

  • शरण्या ने कहा- मैं सुपरन्यूमररी ऑफिसर हूं, और ट्राई-सर्विस टुकड़ी का नेतृत्व करूंगी। यह गर्व की बात है, क्योंकि इतिहास में पहली बार, एक ट्राई-सर्विस दल मार्च करेगा।
  • पहली बार सीमा सुरक्षा बल (BSF), CISF का भी ऑल वुमन मार्चिंग और ब्रास बैंड गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हो रहा है।
  • भारतीय वायुसेना के 144 सदस्यों वाले मार्चिंग दस्ते का नेतृत्व स्क्वाड्रन लीडर रश्मि ठाकुर करेंगी। स्क्वाड्रन लीडर सुमिता यादव, स्क्वाड्रन लीडर प्रतीति अहलूवालिया और फ्लाइट लेफ्टिनेंट कीर्ति रोहिल भी इस दस्ते का हिस्सा होंगी।
  • फ्लाईपास्ट में 29 लड़ाकू जेट समेत 51 सैन्य विमान शामिल होंगे, जिनमें से कुछ को महिला पायलट ऑपरेट करेंगी। 6 लड़ाकू पायलटों समेत पंद्रह महिला पायलट फ्लाईपास्ट में हिस्सा लेंगी। वे राफेल, सुखोई-30 और मिग-29 उड़ाएंगी।
  • दो महीने पहले एयरमैन ट्रेनिंग स्कूल बेलगावी, कर्नाटक से पास हुईं अग्निवीरवायु (महिलाएं) भी परेड में हिस्सा लेंगी। अग्निवीरों की त्रि-सेवा मार्चिंग टुकड़ी में 144 महिलाएं शामिल होंगी, जिनकी औसत उम्र बमुश्किल 20 साल है।

सुबह 10:30 बजे विजय चौक से कर्तव्य पथ जाएगी परेड
यह परेड सुबह 10:30 बजे विजय चौक से कर्तव्य पथ तक जाएगी। दिल्ली के एरिया कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल भवनीश कुमार परेड कमांडर होंगे। परमवीर चक्र से सम्मानित कैप्टन योगेंद्र यादव और सूबेदार मेजर संजय कुमार इस परेड में हिस्सा लेंगे। इस साल की परेड का प्रमुख आकर्षण ‘आह्वान’ होगा, जिसमें शंखनाद होगा। इस साल महिलाओं की हिस्सेदारी बहुत ज्यादा होगी। 13 हजार लोगों को परेड देखने के लिए इनवाइट किया गया है।

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक इस बार परेड में फ्रांसीसी सेना की 95 जवानों वाली मार्चिंग कंटिन्जेंट, 33 जवानों का बैंड और फ्रांसीसी वायुसेना के राफेल जेट और मल्टीरोल टैंकर ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट शामिल होंगे। शनिवार को इन सभी ने परेड की रिहर्सल की। परेड में इस बार फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों शामिल हो रहे हैं।

भारतीय सेना भी 14 जुलाई 2023 को फ्रांस की बास्तील डे परेड में शामिल हुई थी। इसका नेतृत्व स्क्वाड्रन लीडर सुमिता यादव ने किया था। बास्तील डे परेड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए थे।

रिपब्लिक डे फ्लाईपास्ट में शामिल होने वाले 51 एयरक्राफ्ट्स को 6 अलग-अलग बेस से ऑपरेट किया जाएगा।

रिपब्लिक डे फ्लाईपास्ट में शामिल होने वाले 51 एयरक्राफ्ट्स को 6 अलग-अलग बेस से ऑपरेट किया जाएगा।

सेना की झांकी में शामिल होंगे ये हथियार, एयरक्राफ्ट और मिसाइल

LCH प्रचंड चॉपर: हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड का बनाया पहला स्वदेशी मल्टी-रोल कॉम्बैट हेलिकॉप्टर

पिनाका मल्टी-बैरल रॉकेट लॉन्चर्स: पिनाका रॉकेट सिस्टम के नए वर्जन की रेंज बढ़ाई गई है जो 45 किमी की दूरी तक टार्गेट नष्ट कर सकेगा। इस रॉकेट सिस्टम को पुणे की आर्मामेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट इस्टैबलिश्मेंट (ARDE) और हाई इनर्जी मटैरियल रिसर्च लैबोरेटरी (HEMRL) में संयुक्त रूप से बनाया गया है।

नाग एंटी-टैंक मिसाइल: DRDO की बनाई हुईमिसाइल दिन और रात दोनों में दुश्मन के मजबूत से मजबूत टैंक को एंगेज कर सकता है।

वेपन सिस्टम: T-90 टैंक, BMP-2 इंफैंट्री कॉम्बैट व्हीकल, ड्रोन जैमर्स, एडवांस्ड सरवत्र ब्रिज, मीडियम रैंज सर्फेस टु एयर मिसाइल लॉन्चर और मल्टी फंक्शन रडार

स्वाती वेपन लोकेटिंग रडार: देश में डिजाइन की गई वेपन लोकेटिंग रडार गन, मोर्टार, रॉकेट्स को लोकेट करने और काउन्टर बॉम्बार्डमेंट करके उन्हें नष्ट करने में सक्षम है

हेलिकॉप्टर रुद्र: ALH ध्रुव चॉपर्स का वेपनाइज्ड वर्जन। वेपन सिस्टम में पिनाका और स्वाती रडार भी शामिल होगा। इन्हें भी DRDO ने डेवलप किया है।

क्विक फाइटिंग रिएक्शन व्हीकल, लाइट स्पेशलिस्ट व्हीकल और ऑल-टेरेन व्हीकल कर्तव्य पथ पर परेड में शामिल होंगे।

एयरफोर्स के टैंगेल फॉर्मेशन में डॉर्नियर एयरक्राफ्ट शामिल होंगे

एयरफोर्स की टैंगेल फॉर्मेशन तीर के आगे के हिस्से जैसी होती है। इसमें एक एयरक्राफ्ट आगे होता है और दो उसके पीछे।

एयरफोर्स की टैंगेल फॉर्मेशन तीर के आगे के हिस्से जैसी होती है। इसमें एक एयरक्राफ्ट आगे होता है और दो उसके पीछे।

एयरफोर्स की तरफ से फ्लाईपास्ट में टैंगेल फॉर्मेशन दिखाई जाएंगे। इसमें डॉर्नियर एयरक्राफ्ट शामिल होंगे। इस फॉर्मेशन में सबसे आगे हेरिटेज एयरक्राफ्ट डकोटा होगा, जबकि पीछे दो डॉर्नियर Do-228 एयरक्राफ्ट होंगे, जो एविएशन टर्बाइन फ्यूल और बायोफ्यूल के मिक्स्ड ईंधन से उड़ान भरेंगे।

टैंगेल फॉर्मेशन में 1971 की भारत-पाकिस्तान जंग के दौरान किए गए सफल एयरड्रॉप का रि-इनैक्टमेंट करेंगे। इस जंग में पहली बार भारतीय सुरक्षाबलों ने दुश्मन की जमीन पर एयरड्रॉप किया था।

परेड में शामिल होंगे स्पेशलिस्ट मोबिलिटी व्हीकल

​​​​​​ऑल टेरेन व्हीकल और स्पेशलिस्ट मोबिलिटी व्हीकल के कंटीजेंट कमांडर मेजर तूफान सिंह चौहान ने रिहर्सल के दौरान बताया कि इस व्हीकल का इस्तेमाल रेगिस्तानी, पहाड़ी और बर्फीले क्षेत्रों में सैनिकों के ट्रांसपोर्टेशन के लिए किया जा सकता है।

इसके अलावा इसको एक जगह से दूसरी जगह आसानी से एयरलिफ्ट किया जा सकता है। इसके सस्पेंशन इसकी खासियत हैं, जो इसे 60-डिग्री एलिवेशन और 45-डिग्री डिप्रेशन पर काम करने के काबिल बनाता है।

IT मंत्रालय की झांकी में AI आधारित टेक्नोलॉजी दिखाई जाएगी, जम्मू की झांकी में केसर की खेती दिखेगी
इलेक्ट्रॉनिक्स और IT मंत्रालय की झांकी में AI आधारित टेक्नोलॉजी दिखाई जाएगी। मंत्रालय के डायरेक्टर जेएल गुप्ता ने बताया कि इस झांकी में आपको दिखाई देगा कि एक टीचर VR हेडसेट पहनकर बच्चों को पढ़ा रहा है। इसके अलावा इस झांकी में ये भी दिखाया जाएगा कि AI कैसे हेल्थ सेक्टर में मददगार हो सकता है।

जम्मू-कश्मीर की झांकी में जम्बू जू (चिड़ियाघर) सबसे बड़ी हाई-लाइट होगा। जम्मू-कश्मीर सरकार के प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने कहा कि इस झांकी में जम्मू-कश्मीर में डेवलप हो रहीं नई चीजों और नए मौकों को दिखा जाएगा। झांकी में सबसे आगे जम्बू चिड़ियाघर दिखाया जाएगा, जबकि झांकी के पीछे की तरफ महिलाओं को जम्मू-कश्मीर का प्रसिद्ध पेपर मैशियर करते हुए दिखाया जाएगा। झांकी में सबसे पीछे केसर की खेती की पूरी प्रक्रिया दर्शित की जाएगी।

लद्दाख के डिप्टी सेक्रेटरी नजीर लद्दाखी ने बताया कि लद्दाख की झांकी में महिला सश्क्तीकरण दिखाया गया है। उन्होंने बताया कि झांकी में देश की आइस हॉकी टीम भी शामिल होगी। देश के सभी 11 आइस हॉकी प्लेयर्स लद्दाख से आते हैं। इसके अलावा पश्मीना शॉल मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर को भी दिखाया जाएगा। दुनिया की सबसे ऊंची सड़क उमिंग ला, जिसका उद्घाटन इसी साल हुआ है, वह भी झांकी का हिस्सा होगी।

दिल्ली में गणतंत्र दिवस तक रोज 2 घंटे फ्लाइट बैन
इधर, दिल्ली में 26 जनवरी तक हर दिन सुबह 10.20 बजे से दोपहर 12.45 बजे तक दिल्ली हवाई अड्डे से न तो कोई प्लेन उड़ान भरेगा और न ही लैंड करेगा। गणतंत्र दिवस की तैयारियों और कर्तव्यपथ पर होने वाले मुख्य समारोह के चलते यह फैसला लिया गया है। यह प्रतिबंध 19 जनवरी से 26 जनवरी तक लागू रहेगा।

हालांकि वायुसेना, BSF और आर्मी हेलिकॉप्टर के साथ-साथ राज्यपाल/मुख्यमंत्री को लेकर आ रहे विमानों पर NOTAM प्रभावी नहीं होगा। पढ़ें पूरी खबर…

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link